सेंटर जीएसटी के छापेमारी में शिवम स्टील समूह के एक्सपोर्ट डाटा में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी

  • करोड़ो के जीएसटी चोरी का लगाया जा रहा है अनुमान
  • चालीस से अधिक अधिकारयों की टीम कर रही है कारवाई

गिरिडीह। सेंट्रल जीएसटी के डीजीजीआई (डायरेक्टरेट जीएसटी) की टीम ने बुधवार को गिरिडीह के नामचीन टीएमटी फैक्ट्री शिवम स्टील समूह के फैक्ट्री समेत गिरिडीह के फैक्ट्री, कार्यालय और कोलकाता के शिवम समूह के कार्यालय में भी छापेमारी की जा रही है। जानकारी के अनुसार छापेमारी की इस कारवाई में चालीस से अधिक डीजीजीआई विंग के अधिकारी और कर्मी शामिल है। सेंट्रल जीएसटी के सेक्शन 67(2) के धारा के तहत शिवम स्टील समूह के फैक्ट्री और कार्यालय में यह छापेमारी हुआ। सुबह में शुरू हुई कारवाई अब भी जारी है और डीजीजीआई के अधिकारयों की माने तो शिवम स्टील समूह में यह कारवाई अगले दो दिन तक जारी रहेगी। क्योंकि बड़े पैमाने पर एक्सपोर्ट निर्यात डाटा में गड़बड़ी होने की बात सामने आई है। हालांकि शिवम समूह ने कितने बड़े पैमाने पर निर्यात में गड़बड़ी किया है, यह फिलहाल समूह के सारे कागजात खंगालने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा।

सेंट्रल जीएसटी के डीजीजीई सूत्रों की माने तो निर्यात डाटा में गड़बड़ी करोड़ों में जा सकता है। कारवाई डीजीजीई कोलकाता ईस्ट के ज्वाइंट डायरेक्टर नितेश कुमार के नेतृत्व में किया जा रहा है। वैसे गौर करने वाली बात तो यह भी है इसी डीजीजीई ने कोलकाता के पीयूष जैन के रेड कर करोड़ो के जीएसटी टैक्स चोरी का मामला पकड़ा था। लिहाजा, डीजीजीई विंग के अधिकारी भी शिवम समूह के इस कारवाई को लेकर फिलहाल यही मान रहे है कि गिरिडीह के इस शिवम स्टील समूह का भी गड़बड़ी का मामला करोड़ो में निकल सकता है। वहीं इसी गड़बड़ी को पकड़ने के लिए पूरी टीम एक एक कागजात और कंप्यूटर को खंगाल रही है।

टीम में शामिल अधिकारयों की माने तो पूरा समूह छड़, आयरन ओर, बिल्लेट के साथ और कई रॉ मेटेरियल का कच्चे माल का क्या स्टॉक कितना आयात और निर्यात किया है इसका सही डाटा अब तक डीजीजीई विंग को नही दिखाया है। यही नहीं समूह की और से कितने टीएमटी और बिलेट के साथ आयरन ओर का स्टॉक कहा कहा और कितना एक्सपोर्ट (निर्यात) किया गया। इसी आंकड़े को डीजीजीआइ के अधिकारयों द्वारा खंगाला जा रहा है।

Please follow and like us:
Show Buttons
Hide Buttons
বাংলা English हिन्दी