ममता बताये, क्या टीएमसी को प्रशांत किशोर के पास गिरवी रखा है : विजयवर्गीय

कोलकाता। इन दिनों पश्चिम बंगाल में सियासी पारा चढ़ा हुआ है। भाजपा व तृणमूल एक दूसरे पर वार-पलटवार करने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है। इसी बीच अब भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। विजयवर्गीय ने कहा है कि क्या ममता बनर्जी ने आत्मविश्वास खो दिया है और अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस को चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर व उनकी टीम के पास गिरवी रख दिया है? विजयवर्गीय ने पूर्वी मिदनापुर के रामनगर में रैली में कहा कि टीएमसी के पुराने नेता उसे छोड़ रहे हैं और राज्य की जनता भी ऐसा ही कर रही है।

भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि कोई भी स्वाभिमानी व्यक्ति अब टीएमसी में नहीं रह सकता, क्योंकि अब इसकी लगाम भाइपो (ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक) के हाथों में चली गयी है। ऐसा लगता है कि ममता ने टीएमसी को प्रशांत किशोर के पास गिरवी छोड़ दिया है। मालूम हो कि प्रशांत किशोर की कंपनी इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आई-पैक) को पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ टीएमसी ने विधानसभा चुनाव 2021 के लिए उसकी रणनीति तैयार करने की जिम्मेदारी दी है। प्रशांत किशोर की कार्यशैली से टीएमसी के कुछ बड़े नेता नाराज हैं और खुलकर अपना गुस्सा जाहिर कर चुके हैं। इस बीच प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने भी टीएमसी पर उसकी घरेलू और बाहरी की राजनीति के लिए निशाना साधा।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा है कि ममता बनर्जी देशवासियों के मन में राज्य को लेकर संदेह पैदा कर रही हैं। उन्होंने दावा किया कि बाहरी लोगों का विरोध करने की टीएमसी की संकीर्ण राजनीति से अन्य राज्य में काम कर रहे बंगालियों को मुश्किल हो रही है। उन्होंने पूछा कि दूसरे राज्यों में काम कर रहे बंगालियों को वहां से बाहरी कहकर वापस भेज दिया गया तो क्या टीएमसी उन लाखों प्रवासी कामगार बंगालियों को रोजगार और सुरक्षा उपलब्ध करा पाएगी? क्या टीएमसी ने यह सोचना शुरू कर दिया है कि यह क्षेत्र पश्चिम बांग्लादेश बन गया है? क्या हमें इस क्षेत्र में आने के लिये वीजा की जरूरत होगी?

Please follow and like us:
Show Buttons
Hide Buttons
বাংলা English हिन्दी