केन्द्रीय मंत्री अन्नपूर्णा के जन आशीर्वाद यात्रा पर झामुमो ने कड़ा तंज कसते हुए पूछा क्या सीएम प्रोजेक्ट करने के लिए किया गया आयोजन

स्कूल फीस देकर प्रताड़ित किए जा रहे अभिभावकों को क्यों नहीं भाजपाईयों ने मिलने दिया केन्द्रीय मंत्री से

गिरिडीहः
केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी के जन आशीर्वाद यात्रा को लेकर गिरिडीह झामुमो ने शनिवार को कड़ा तंज कसा। और एक साथ कई सवाल के जरिए भाजपा के गिरिडीह समेत प्रर्देश नेत्तृव को मुश्किल में डाल दिया कि क्या केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री को ही भाजपा सीएम प्रोजेक्ट करेगी, सिर्फ अन्नपूर्णा देवी का महिमा मंडित करना था? शनिवार को पार्टी कार्यालय में एक प्रेसवार्ता कर झामुमो अध्यक्ष संजय सिंह ने भाजपा को इस सवाल में घेरते हुए केन्द्र सरकार पर गंभीर आरोप भी लगाएं। जब केन्द्र सरकार के मुखिया पीए मोदी खुद ही कोरोना से बचाव को लेकर भीड़ नहीं करने का सुझाव दे रहे है। तो फिर कोरोना नियमों का उल्लघंन कर जन आशीर्वाद यात्रा निकालने का क्या मकसद था। वह भी रक्षाबंधन और मुहर्रम जैसे त्योहारों के वक्त। जबकि गिरिडीह को शुरु से ही संवेदनशील जिले की श्रेणी में है यहां मामूली बातों पर दो समुदायों में विवाद शुरु हो जाता है। लिहाजा, प्रशासन की और से मामूली चूक भी रहती तो दोनों त्योहार प्रभावित होते। और ठीकरा हेमंत सरकार के साथ प्रशासन पर फूटता। झामुमो अध्यक्ष ने प्रेसवार्ता के दौरान स्थानीय प्रशासन को साधुवाद देते हुए कहा कि बेहद सावधानी के साथ प्रशासन ने जन आशीर्वाद यात्रा का भ्रमण शहर में होने दिया। लेकिन झामुमो अब प्रशासन से पूरी जानकारी लेगी कि आशीर्वाद यात्रा को सहमति मिली था, या नहीं। इसके बाद आयोजकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करेगी।
हेमंत सरकार पर केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री के लगाएं आरोपों पर अब झामुमो ने तल्ख तेवर अपनाते हुए कहा कि अगर उपलब्धि हो तो, केन्द्र सरकार के हर मंत्री को जन आशीर्वाद यात्रा निकालनी चाहिए। लेकिन मोदी सरकार व उनके मंत्रीमंडल के बीच से मंहगाई, बेरोजगारी सब खत्म हो कर बगैर किसी उपलब्धि के ही आशीर्वाद यात्रा निकालना मकसद रह गया है। झामुमो अध्यक्ष ने यह भी कहा कि जब जन आशीर्वाद यात्रा पहुंची, तो भाजपा नेताओं व मंत्री समर्थकों को जिले के अभिभावकों से जरुर मिलाना चाहिए था, जिसे केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री से अभिभावक सवाल पूछते कि आखिरकार कोरोनाकाल में प्राईवट स्कूलों द्वारा अनावश्यक फीस क्यों लिया जा रहा है। लेकिन जनहित के ऐसे मुद्दे गायब है। और मुद्दों के समाधान के बगैर जन आशीर्वाद यात्रा निकाल कर जनता से आशीर्वाद लिया जा रहा है। इधर प्र्रेसवार्ता में झामुमो नेता अजीत कुमार पप्पू, फरीद अंसारी, ज्योतिन्द्र प्रसाद, अभय सिंह, उमाचरण दास, महताब मिर्जा और राहुल कुमार समेत कई मौजूद थे।

Please follow and like us:
Show Buttons
Hide Buttons
বাংলা English हिन्दी