कोयला उठाव मामले में गिरिडीह की राजनीति में विधायक सोनू के चक्रव्यूह को तोड़ने में सफल रही केन्द्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी

आंदोलन के 22वें दिन गुरुवार से बंद हुआ ओपेन काॅस्ट से कोयले का उठाव

आंदोलनकारियों ने केन्द्रीय मंत्री को दिया साधुवाद

गिरिडीहः
22 दिनों के आंदोलन के बाद गिरिडीह के ओपेन काॅस्ट कोयला खदान से मैथन पाॅवर लिमिटेड एमपीएल का कोयला उठाव गुरुवार से बंद हो गया। एमपीएल के कोयला उठाव बंद कराने में केन्द्रीय मंत्री सह कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी की भूमिका जबरदस्त बताई जा रही है। क्योंकि एमपीएल के समर्थन में जहां एक तरफ पूरा झामुमो और खुद गिरिडीह के सदर विधायक सुदिव्य कुमार सोनू हर वक्त खड़े रहे। तो एमपीएल के कोयला उठाव में खुद आजसू के गिरिडीह नेता गुड्डु यादव भी सक्रिय दिखे थे। एक तरह से यह कहा जाए कि आजसू और झामुमो की जुगलबंदी के कारण अब तक एमपीएल दो हजार टन कोयले का उठाव करने में सफल रहा। तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। वैसे मामला जब केन्द्रीय मंत्री सह कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी तक पहुंचा। तो बात गिरिडीह की राजनीति में केन्द्रीय मंत्री और सदर विधायक के प्रतिष्ठा पर आ गई। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी ने खुद कोयला मंत्री को पत्राचार कर एमपीएल के कोयला खरीद को रद्द करने की मांग कर दी।
एमपीएल दो हजार टन का उठाव करने में सफल तो हो गया। लेकिन केन्द्र में खास जगह बना चुकी केन्द्रीय मंत्री की राजनीति के आगे ना तो झामुमो के गिरिडीह से कद्दावार विधायक सोनू की ही चली। और ना ही एमपीएल का। लिहाजा, गुरुवार से कोयले का उठाव बंद हो गया। गुरुवार को भी एमपीएल का कई हाईवा ओपेन काॅस्ट खदान पहुंचा। लेकिन जितनी देर तक सारे हाईवा कांटा घर में वजन होते रहे। उतने देर में ही रांची के दरंभगा हाउस स्थित विक्रय शाखा से उठाव बंद करने का नया निर्देश भी आ गया। नया निर्देश आते ही आंदोलनकारियों का उत्साह देखते ही बना।


पिछले 22 दिनों से आंदोलन में बैठे ट्रक मालिक और डीओ होल्डर कंपू यादव, राजेन्द्र यादव, कमलचंद साहु, राजेन्द्र राय के साथ आंदोलन के अंतिम दिन गुरुवार को भाजपा नेता सह सांसद प्रतिनिधि दिनेश यादव, भाजपा नेता सुरेश साव, चुन्नूकांत, माले नेता राजेश यादव, राजेश सिन्हा समेत कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने खुशी जाहिर किया। तो माला पहनाकर एक-दुसरे को बधाई भी दी। रोड सेल के बजाय एमपीएल को उसके शर्त पर कोयला उठाव की अनुमति देने के विरोध में पिछले 22 दिनांे से ओपेन काॅस्ट खदान के समीप आंदोलन चल रहा था। इधर गिरिडीह के परियोजना पदाधिकारी अजीत सिंह ने भी इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि एमपीएल अब तक ओपेनकाॅस्ट खदान से 2 हजार टन कोयले का उठाव कर चुका था। जबकि 1500 सौ टन कोयले का उठाव उसे और करना था। क्योंकि एमपीएल ने ओपेन काॅस्ट खदान से 3500 सौ टन कोयले की खरीदारी किया था। पहले 2000 हजार टन के उठाव का मियाद 22 सितंबर तय था। जबकि 1500 सौ टन के उठाव की तिथि अभी बाकी थी।

Please follow and like us:
Show Buttons
Hide Buttons
বাংলা English हिन्दी